पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics

इस Article में – पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics का हिंदी एवं English Lyrics भी दिया जा रहा है और उम्मीद है कि यह – पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics आपके लिए यह Article Helpful है ||

मेरी मैया की चुनरी कमाल है लिरिक्स | Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics In Hindi

पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics
पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics

यहाँ – पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics दिया गया है-

भजन – पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स

सुनिये सुना रहा हूं एक दास्तान है,
सावन का महीना बड़ा पावन महान है,
सुनिए सुना रहा हूँ एक दास्तान है,
सावन का महीना बड़ा पावन महान है,

लाखों कावड़िया जाते हैं श्री बाबा धाम को,
जपते हुए उमंग में बम-बम के नाम को,
इकलोता बेटा बाप का माता का नो निहाल,
कांवड़ चढ़ाने के लिए वो भी चला एक साल,

उसकी पत्नी बोली कि आपके संग में भी जाऊंगी,
कांवड़ आपके साथ में जाकर चढ़ाउंगी,
खुशियो में झूमते हुए वो दोनों चल पड़े,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
भोले को जल चढाने के लिए घर से निकल पड़े,

सुल्तान गंज पहुँच कर जहाँ से जल भरा जाता है,
गंगा के किनारे खुश होकर देखने लगे मेले के नज़ारे,
पति बोला आ रहा हूँ में स्नान कर अभी फिर पीछे तू नहाना,
आ जाऊँ में जभी और कूद पड़ा गंगा जी में डुबकी लगाया,

फिर वो लौट कर वहाँ वापस नहीं आया,
पत्नी को छोड़ अकेली गया संसार में,
वो बह गया श्री गंगा जी की बीच धार में,
चारों तरफ में जैसे एकचीत्कार मच गया,

गंगा के किनारे में हा-हाकार मच गया,
पत्नी पछाड़ खाती थी रोती थी ज़ार ज़ार,
की भोले तूने लूट लिया मेरा सोने का संसार ||

कावड़ चढ़ाने आये थे खुशियो में झूमते,
कावड़ चढ़ाने आए थे खुशियो में झूमते,
पर लुट गई अब भोले जी अब तेरे द्वार में,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
लो संभालो प्रभु अपनी कावड़,

लुट गई में अभागन यहाँ पे,
लो संभालो भोले अपनी कावड़,
लुट गई में अभागन यहाँ पे ||

लूट लिया तुमने मेरे सोने से संसार को,
कर दिया वीरान महकते हुए गुलज़ार को,
कौन कह रहा है के तू दानी दयावान है,
दिन और निर्बल पर सदा रहता मेहरबान है,

आज सभी बात तेरी मेने लिया जान है,
बस निर्दई कठोर है पत्थर का तू भगवान है,
उठ गया विश्वास मेरा आज तेरे नाम से,
क्या कहूँगी दुनियाँ को जा करके तेरे धाम से,

में भी चली जाऊँगी दुनियां से नाता तोड़कर,
अब यही मर जाऊँगी पत्थ से सर को फोड़ कर,
तब देख के उस दुखिया को सब लोग तरस खाते थे,
कोई देता था तसल्ली और कई समझाते थे,

पर नहीं था उसको अपनी दिन और दुनिया का ख़याल,
फाड़ती थी तन के कपड़े नोचती थी सर के बाल,
और फिर कभी कहती थी भोले झूठ तेरा नाम है,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
दिन और दुखियो के आता नही काम है ||

लो संभालो प्रभु अपनी कावड़,
लुट गई में अभागन यहाँ पे,
लो संभालो भोले अपनी कावड़,
लुट गई में अभागन यहाँ पे ||

पाँव में छाले पड़े कुम्भला,
इरादे सेकड़ो बनते है बनके टूट जाते हैं,
कांवड़ वहीं उठाते हैं जिन्हें भोले बुलाते हैं,
पाँव में छाले पड़े कुम्हला गया कोमल बदन,
मारे भूख प्यास के होती थी कंठ में जलन,

बाल थे बिखरे हुए कपड़े बदन के तार तार,
राह में गिर पड़ती थी बेहोश हो के बार बार,
तब देख के हाल एक संत को आयी दया,
और पानी पिला करके पूछने लगे बेटी बता,

हाल जरा अपना सुना दे यहाँ पे बैठकर,
किस लिए तू फिर रही है मारी मारी दर बदर,
रो के वो कहने लगी बस फूट गया भाग है,
आज इस दुनिया में लूट गया है सुहाग है,

संत बोले, संत बोले बेटी तू हिम्मत से जरा काम ले,
एक दफा भोले प्रभु का प्रेम से तू नाम ले,
देते हैं सबको सहारा तू उन्ही को याद कर,
जो भी तुझको कहना है चलकर वही फ़रियाद कर,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

वो चीख करके कहने लगी झूठा तेरा ज्ञान है,
इस जगत में कोई भी ईश्वर है ना भगवान है,
मारने उस संत को पत्थर उठा आगे बड़ी,
और थरथराके इस तरह कहते हुए वो गिर पड़ी,

लो संभालो प्रभु अपनी कावड़,
लुट गई में अभागन यहाँ पे,
लो संभालो भोले अपनी कावड़,
लुट गई में अभागन यहाँ पे ||

फिर सेकड़ो कावड़ियो की कावड़ झपट तोड़ दी,
मार के पत्थर ना जाने कितनो के सर फोड़ दी,
और पीछे पीछे पीछे आ गई वो भोले जी द्वार में,
गिर पड़ी वो ओंधें मुह शिव शम्भू के दरबार में,

और बोली चीख मारके क्या तू ही वो भगवान है,
अरे कर दिया बगिया को मेरे तूने तो वीरान है,
क्या मिला ओ निर्दई सुहाग मेरा लूटकर,
रोने लगी हिचकियां लेले के फूट फूट कर,

के है अगर भगवान तो क्यों सामने आता नहीं,
बिजली आसमान से क्यों मुझपे गिराता नही,
और सर को पटकने लगी शिव लिंग पे वो बार बार,
बहने लगी सर से उसके चारो तरफ खून की धार,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

आज अरे आज तो प्रीतम को अपने लेके में घर जाऊँगी,
वरना तेरे धाम में सर फोड़ के मर जाऊँगी,
फिर हो गई बेहोश तो कुछ लोगे ने मिलकर उसे,
एक जगह लिटा दिया मंदिर के ला बाहर उसे,

लोगो ने समझा ये किनारा जगत से कर गई,
ये कौन थी बेचारी आज आके यहा मर गई,
फिर आई एक आवाज अरे भाग्यवान जरा आँख खोल,
फिर आई एक आवाज अरे भाग्यवान जरा आँख खोल,

प्रेम से शिव भोले जी के नाम की जयकार बोल,
प्रेम से शिव भोले जी के नाम की जयकार बोल,
वो चौंककर देखने को खोली जब अपनी नज़र,
वो चोंककर देखने को खोली जब अपनी नज़र,
उसके पति ही की गोद में रखा था उसका सर,
बोली पति से लिपट ये कैसा चमत्कार है,

हँस के पति बोला ये शिव भोले का दरबार है,
सूखे हुए बाग़ ह्रदय के यहीं खिल जाते हैं,
मुद्दतों से बिछड़े हुए भी यही मिल जाते हैं,
अरे मैं तो बह गया था श्री गंगा जी की धार में,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
लोग कुछ नहा रहे थे घाट के उस पार में,

एक संत की पड़ी बहते हुए मुझपे नज़र,
कहते है कुछ लोग वही लाया मुझे तैरकर,
होश में लाकर मुझे बतलाया वो तेरी ख़बर,
बोला सीधे जा चला तू बाबा धाम की डगर,
पत्नी तेरी कर रही है बस तेरा ही इंतजार,
तेरी जुदाई में हो गई है बेचारी बेहाल,
और बह रही थी सन्त के सर से,

खून की एक मोटी सी धार,
पूछा मैंने संत से देखके ये बार बार,
हे बाबा कैसे चोट लगी है मुझे बताइए,
मुझसे कोई बात अपने दिल की ना छुपाइए,
वो संत बोले मेरी एक बेटी है गुस्से में आज हारकर,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

फोड़ दिया सर मेरा पत्थर से मार मार कर,
और मुस्कुराके कहने लगे उसका ये उपहार है,
पर मेरी पगली बेटी को मुझसे बड़ा ही प्यार है,
पर है बड़ी जिद्दी अभी दुनिया से वो नादान है,
पर कुछ भी हो में हूँ पिता और वो मेरी संतान है,
पर कुछ भी हो में हूँ पिता और वो मेरी संतान है,

तब तो वो घबरा गई सुनकर पति देव के बयान को,
के नाथ में भी तो मार बैठी थी एक संत दयावान को,
फिर पत्नी बोली नाथ अब कांवड़ अभी मंगाइए,
फिर पत्नी बोली नाथ अब कांवड़ अभी मंगाइए,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
और मेरे साथ भोले जी को चल के जल चढ़ाइये,

हाथ में जल पात्र लिए जब दोनों आगे बढ़े,
देखा मुस्कुराते हुए संत को वहाँ खड़े,
और देख के उनको वहां हो गए हैरानहैं,
क्या दिव्य रूप उनका है चेहरा प्रकाशवान है,
फिर उन्हें दिखलाई पड़ा बहती है जटा से गंगा,
और भोले बाबा थे खड़े हँसते हुए गौरी के संग,
थामने को शिव चरण वो दोनों जब आगे बढे,

लोप हो गए भोले जी शिव लिंग पे वो गिर पड़े,
तब रो के वो कहने लगे गलती क्षमा कर दीजिये,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
आप की शरण में है बाबा दया कर दीजिये,
धन्य है माया तेरी तू दानी दयावान है,
चरणों में अपनाइये हम मूरख हैं नादान हैं,
ओ भोले तेरा भेद कोई पाया नही पार है,

पूजता है तुमको तभी सभी संसार है,
फिर दोनो प्राणी भोले को कावड़ चढ़ा हुए प्रसन्न,
फिर दोनो प्राणी भोले को कावड़ चढ़ा हुए प्रसन्न,

और गाने लगे शर्मा जल चढ़ा के प्रेम से भजन,
के लो संभालो लो संभालो लो संभालो,
लो संभालो भोले अपनी कावड़,
बन गई मै सुहान यहाँ पे बन गई मै सुहान यहाँ पे ||

अन्य शिव भजन –


Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics In English

Bhajan – Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics

suniye suna raha hoon ek daastaan hai,
saavan ka maheena bada paavan mahaan hai,
sunie suna raha hoon ek daastaan hai,
saavan ka maheena bada paavan mahaan hai,

laakhon kaavadiya jaate hain shree baaba dhaam ko,
japate hue umang mein bam-bam ke naam ko,
ikalota beta baap ka maata ka no nihaal,
kaanvad chadhaane ke lie vo bhee chala ek saal,

usakee patnee bolee ki aapake sang mein bhee jaoongee,
kaanvad aapake saath mein jaakar chadhaungee,
khushiyo mein jhoomate hue vo donon chal pade,
bhole ko jal chadhaane ke lie ghar se nikal pade,

sultaan ganj pahunch kar jahaan se jal bhara jaata hai,
ganga ke kinaare khush hokar dekhane lage mele ke nazaare,
pati bola aa raha hoon mein snaan kar abhee phir peechhe too nahaana,
aa jaoon mein jabhee aur kood pada ganga jee mein dubakee lagaaya,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

phir vo laut kar vahaan vaapas nahin aaya,
patnee ko chhod akelee gaya sansaar mein,
vo bah gaya shree ganga jee kee beech dhaar mein,
chaaron taraph mein jaise ekacheetkaar mach gaya,

ganga ke kinaare mein ha-haakaar mach gaya,
patnee pachhaad khaatee thee rotee thee zaar zaar,
kee bhole toone loot liya mera sone ka sansaar.

kaavad chadhaane aaye the khushiyo mein jhoomate,
kaavad chadhaane aae the khushiyo mein jhoomate,
par lut gaee ab bhole jee ab tere dvaar mein,
lo sambhaalo prabhu apanee kaavad,

lut gaee mein abhaagan yahaan pe,
lo sambhaalo bhole apanee kaavad,
lut gaee mein abhaagan yahaan pe.

loot liya tumane mere sone se sansaar ko,
kar diya veeraan mahakate hue gulazaar ko,
kaun kah raha hai ke too daanee dayaavaan hai,
din aur nirbal par sada rahata meharabaan hai,

aaj sabhee baat teree mene liya jaan hai,
bas nirdee kathor hai patthar ka too bhagavaan hai,
uth gaya vishvaas mera aaj tere naam se,
kya kahoongee duniyaan ko ja karake tere dhaam se,

mein bhee chalee jaoongee duniyaan se naata todakar,
ab yahee mar jaoongee patth se sar ko phod kar,
tab dekh ke us dukhiya ko sab log taras khaate the,
koee deta tha tasallee aur kaee samajhaate the,

par nahin tha usako apanee din aur duniya ka khayaal,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
phaadatee thee tan ke kapade nochatee thee sar ke baal,
aur phir kabhee kahatee thee bhole jhooth tera naam hai,
din aur dukhiyo ke aata nahee kaam hai.

lo sambhaalo prabhu apanee kaavad,
lut gaee mein abhaagan yahaan pe,
lo sambhaalo bhole apanee kaavad,
lut gaee mein abhaagan yahaan pe.

paanv mein chhaale pade kumbhala,
iraade sekado banate hai banake toot jaate hain,
kaanvad vaheen uthaate hain jinhen bhole bulaate hain,
paanv mein chhaale pade kumhala gaya komal badan,
maare bhookh pyaas ke hotee thee kanth mein jalan,

baal the bikhare hue kapade badan ke taar taar,
raah mein gir padatee thee behosh ho ke baar baar,
tab dekh ke haal ek sant ko aayee daya,
aur paanee pila karake poochhane lage betee bata,

haal jara apana suna de yahaan pe baithakar,
kis lie too phir rahee hai maaree maaree dar badar,
ro ke vo kahane lagee bas phoot gaya bhaag hai,
aaj is duniya mein loot gaya hai suhaag hai,

sant bole, sant bole betee too himmat se jara kaam le,
ek dapha bhole prabhu ka prem se too naam le,
dete hain sabako sahaara too unhee ko yaad kar,
jo bhee tujhako kahana hai chalakar vahee fariyaad kar,

vo cheekh karake kahane lagee jhootha tera gyaan hai,
is jagat mein koee bhee eeshvar hai na bhagavaan hai,
maarane us sant ko patthar utha aage badee,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
aur tharatharaake is tarah kahate hue vo gir padee,

lo sambhaalo prabhu apanee kaavad,
lut gaee mein abhaagan yahaan pe,
lo sambhaalo bhole apanee kaavad,
lut gaee mein abhaagan yahaan pe.

phir sekado kaavadiyo kee kaavad jhapat tod dee,
maar ke patthar na jaane kitano ke sar phod dee,
aur peechhe peechhe peechhe aa gaee vo bhole jee dvaar mein,
gir padee vo ondhen muh shiv shambhoo ke darabaar mein,

aur bolee cheekh maarake kya too hee vo bhagavaan hai,
are kar diya bagiya ko mere toone to veeraan hai,
kya mila o nirdee suhaag mera lootakar,
rone lagee hichakiyaan lele ke phoot phoot kar,

ke hai agar bhagavaan to kyon saamane aata nahin,
bijalee aasamaan se kyon mujhape giraata nahee,
aur sar ko patakane lagee shiv ling pe vo baar baar,
bahane lagee sar se usake chaaro taraph khoon kee dhaar,

aaj are aaj to preetam ko apane leke mein ghar jaoongee,
varana tere dhaam mein sar phod ke mar jaoongee,
phir ho gaee behosh to kuchh loge ne milakar use,
ek jagah lita diya mandir ke la baahar use,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

logo ne samajha ye kinaara jagat se kar gaee,
ye kaun thee bechaaree aaj aake yaha mar gaee,
phir aaee ek aavaaj are bhaagyavaan jara aankh khol,
phir aaee ek aavaaj are bhaagyavaan jara aankh khol,

prem se shiv bhole jee ke naam kee jayakaar bol,
prem se shiv bhole jee ke naam kee jayakaar bol,
vo chaunkakar dekhane ko kholee jab apanee nazar,
vo chonkakar dekhane ko kholee jab apanee nazar,
usake pati hee kee god mein rakha tha usaka sar,
bolee pati se lipat ye kaisa chamatkaar hai,

hans ke pati bola ye shiv bhole ka darabaar hai,
sookhe hue baag hraday ke yaheen khil jaate hain,
muddaton se bichhade hue bhee yahee mil jaate hain,
are main to bah gaya tha shree ganga jee kee dhaar mein,
log kuchh naha rahe the ghaat ke us paar mein,

ek sant kee padee bahate hue mujhape nazar,
kahate hai kuchh log vahee laaya mujhe tairakar,
hosh mein laakar mujhe batalaaya vo teree khabar,
bola seedhe ja chala too baaba dhaam kee dagar,
patnee teree kar rahee hai bas tera hee intajaar,
teree judaee mein ho gaee hai bechaaree behaal,
aur bah rahee thee sant ke sar se, (Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

khoon kee ek motee see dhaar,
poochha mainne sant se dekhake ye baar baar,
he baaba kaise chot lagee hai mujhe bataie,
mujhase koee baat apane dil kee na chhupaie,
vo sant bole meree ek betee hai gusse mein aaj haarakar,

phod diya sar mera patthar se maar maar kar,
aur muskuraake kahane lage usaka ye upahaar hai,
par meree pagalee betee ko mujhase bada hee pyaar hai,
par hai badee jiddee abhee duniya se vo naadaan hai,
par kuchh bhee ho mein hoon pita aur vo meree santaan hai,
par kuchh bhee ho mein hoon pita aur vo meree santaan hai,

tab to vo ghabara gaee sunakar pati dev ke bayaan ko,
ke naath mein bhee to maar baithee thee ek sant dayaavaan ko,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)
phir patnee bolee naath ab kaanvad abhee mangaie,
phir patnee bolee naath ab kaanvad abhee mangaie,
aur mere saath bhole jee ko chal ke jal chadhaiye,

haath mein jal paatr lie jab donon aage badhe,
dekha muskuraate hue sant ko vahaan khade,
aur dekh ke unako vahaan ho gae hairaanahain,
kya divy roop unaka hai chehara prakaashavaan hai,
phir unhen dikhalaee pada bahatee hai jata se ganga,
aur bhole baaba the khade hansate hue gauree ke sang,
thaamane ko shiv charan vo donon jab aage badhe,

lop ho gae bhole jee shiv ling pe vo gir pade,
tab ro ke vo kahane lage galatee kshama kar deejiye,
aap kee sharan mein hai baaba daya kar deejiye,
dhany hai maaya teree too daanee dayaavaan hai,
charanon mein apanaiye ham moorakh hain naadaan hain,
o bhole tera bhed koee paaya nahee paar hai,(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

poojata hai tumako tabhee sabhee sansaar hai,
phir dono praanee bhole ko kaavad chadha hue prasann,
phir dono praanee bhole ko kaavad chadha hue prasann,

aur gaane lage sharma jal chadha ke prem se bhajan,
ke lo sambhaalo lo sambhaalo lo sambhaalo,
lo sambhaalo bhole apanee kaavad,
ban gaee mai suhaan yahaan pe ban gaee mai suhaan yahaan pe(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics
पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics

आशा करता हु कि पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics अच्छा लगा होगा अगर आपको पगली-कांवड़ की महिमा लिरिक्स, Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics अच्छा लगा तो-

कमेंट करके जरूर बताएं एवं आप अपनी रिकवेस्ट भी हमे कमेंट करके बता सकते है, उस भजन या गीत आदि को जल्द से जल्द लाने की हमारी कोशिश रहेगी |(Pagli – Kanwar Ki Mahima Lyrics)

बॉलीवुड सोंग नोटेशन, सुपरहिट भजनों नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं और म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें |

और subscribe करें मेरे y o u t u b e चैनल Web Blogging Scholar को Website Designing, SEO, और ब्लॉग्गिंग सीखने के लिए |

धन्यवाद् – पवन शास्त्री