श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

इसमें Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स का हिंदी और English Lyrics भी दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि यह Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स जरूर Helpful होगा |

Shri Govardhan Maharaj Lyrics – श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

यहाँ Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स दिया गया है-

श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े,
तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े |
तोपे चढ़े दूध की धार, ओ धार,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरे कानन कुंडल साज रहे,
तेरे कानन कुंडल साज रहे |
ठोड़ी पे हिरा लाल, ओ लाल,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरे गले में कंठा सोने को,
तेरे गले में कंठा सोने को |
तेरी झांकी बनी विशाल, विशाल,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरी सात कोस की परिक्रमा,
तेरी सात कोस की परिक्रमा |
और चकलेश्वर विश्राम, विश्राम,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

सम्बंधित पोस्ट जरूर देखे-

श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो विडियो


Shri Govardhan Maharaj Lyrics In English

In this article, you are also being given the Hindi and English lyrics of Shri Govardhan Maharaj Lyrics and I hope that Shri Govardhan Maharaj Lyrics In English is helpful for you.

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

tope paan chadhe tope phool chadhe,
tope paan chadhe tope phool chadhe |
tope chadhe doodh kee dhaar, o dhaar,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

tere kaanan kundal saaj rahe,
tere kaanan kundal saaj rahe |
thodee pe hira laal, o laal,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

tere gale mein kantha sone ko,
tere gale mein kantha sone ko |
teree jhaankee banee vishaal, vishaal,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

teree saat kos kee parikrama,
teree saat kos kee parikrama |
aur chakaleshvar vishraam, vishraam,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

shree govardhan maharaaj maharaaj,
tere maathe mukut viraaj rahyo ||

आशा करता हूँ की आपको यह Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स जरुर पसंद आया होगा अगर आपको यह Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स पसंद आया हो या आप कोई सुझाव देना चाहते हैं तो –

“कमेन्ट जरूर करें |”

अनेको रागों की बंदिशों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, फ़िल्मी गानों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, सुपरहिट भजनों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु, और टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारी पाने के लिए   “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर F O L L O W करें |

और S U B S C R I B E करें मेरे y o u t u b e चैनल “Sur Sarita tech-Youtube” “S U R  S A R I T A  T E C H K N O W” – You tube को |

P L E A S E   C O M M E N T और शेयर जरूर करें ||

धन्यवाद्
पवन शास्त्री ( सुर सरिता टेक्नो )


श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स

यहाँ Shri Govardhan Maharaj Lyrics,श्री गोवर्धन महाराज तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो लिरिक्स दिया गया है-

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े,
तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े |
तोपे चढ़े दूध की धार, ओ धार,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरे कानन कुंडल साज रहे,
तेरे कानन कुंडल साज रहे |
ठोड़ी पे हिरा लाल, ओ लाल,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरे गले में कंठा सोने को,
तेरे गले में कंठा सोने को |
तेरी झांकी बनी विशाल, विशाल,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

तेरी सात कोस की परिक्रमा,
तेरी सात कोस की परिक्रमा |
और चकलेश्वर विश्राम, विश्राम,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

श्री गोवर्धन महराज महराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रह्यो ||

धन्यवाद….

Leave a Comment