सखि उठिकर करहु सिंगार बसन्त जाये | Sakhi Uthikar Holi Chautal Lyrics

सखि उठिकर करहु सिंगार बसन्त जाये | Sakhi Uthikar Holi Chautal in Hindi

सखि उठिकर करहु सिंगार बसन्त जाये ||

बाजुबन्द कंगन भल सोहे अँगुरिन नेपुर भाय ||

पहिरि बिजायठ हार जो सोहत, सिर बेन्दी मन लाये ||१ ||

करि सिंगार पलंगपर बैठी पिया पिया गोहराय ||

मैं बिरहिनि पिया बात न पूछत, तब जोबन जोर जनाय ||२ ||

चोलिया मसके बन्द सब टूटे अंग अंग थहराय ||

कामके बिरह सहा नहीं जातहो, गोरी सोचनमें तन छाय ||३ ||

पियपिय बोल पपिहरा बोलत सुनि सुनि धीर न आये ||

लालबिहारी धीर धरावत, गोरी धीर धरो मन माय ||४ ||

अन्य होली गीत –


सखि उठिकर करहु सिंगार बसन्त जाये | Sakhi Uthikar Holi Chautal Lyrics
सखि उठिकर करहु सिंगार बसन्त जाये, Sakhi Uthikar Holi Chautal Lyrics

छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com

Share: