सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये | Sakhi Aaye Basant Holi Chautal

इस Article में आपको सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये, Sakhi Aaye Basant Holi Chautal Lyrics का हिंदी एवं English Lyrics भी दिया जा रहा है |

सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये | Sakhi Aaye Basant Holi Chautal in Hindi

सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये ||

फागुन मस्त महीना सखिया मोर जिया ललचाये ||

सब नर नारी जो पागुन गावत,

सखि मोकहं सूम बढ़ाये ||१ ||

ताल मृदंग झांझ डफ बाजे सबको मन हरषाये ||

मैं बिरहिनि सेजियापर बिलखति,

मोहिं अजु मदन तनु छाये ||२ ||

भरभरके पिचकारी मारत नात गोत बिलगाये ||

सखि सब घर घर धूम मचावत,

तहां रंग अबिरन छाये ||३ ||

गोरी देत सभीको सबही ना कोइ काहु लजाये ||

लालबिहारी विरहबस बनिताहो, सोतो बैठे मनहि सुझाये ||४ ||

अन्य होली गीत –


सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये | Sakhi Aaye Basant Holi Chautal
सखि आये बसंत बहार पिया नहिं आये, Sakhi Aaye Basant Holi Chautal

छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com

Share: