पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar

इस Article में आपको पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics का हिंदी And English Lyrics भी दिया जा रहा है और उम्मीद है कि यह पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics आपके लिए यह पद जरूर Helpful है |

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स | Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In Hindi

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics

यहाँ – पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics दिया गया है-

भजन – पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

सांस रुकी तेरे दर्शन को, न दुनिया में मेरा लगता है
शबरी बांके बैठा हूं मेरा श्री राम में अटका मन
बेकार मेरे दिल को मैं कितना भी समझा लूं
राम दरस के बाद दिल चोरेगा ये धड़कन
काले युग प्राणि हूं पर जीता हूं मैं त्रेता युग

कर्ता हूं महसुस पलों को माना न वो देखा युग
देगा युग कलि का ये पापोन के उपहार का
चांद मेरा पर गाने का हर प्राण को देगा सुख
हरि कथा का वक्त हूं मैं, राम भजन की आदत

राम आभारी शायर, मिल जो राही है दावत
हरि कथा सुना के मैं चोर तुम्हें कल जाउंगा
बाद मेरे न गिरने न देना हरि कथा विरासतत

पाने को दीदार प्रभु के नैन बड़े ये तरस है
जान सके ना कोई वेदना रातों को ये बरसे है
किसे पता किस मौके पे, किस भूमि पे, किस कोने में
मेले में या वीराने में श्री हरि हमें दर्शन दे

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार
इंतजार में बैठा हूं कब बीतेगा ये काला युग
बीतेगी ये पीडा और भारी दिल के सारे दुख
मिलने को हूं बेकार पर पाप का मैं भागी भी

नाज़रीन मेरी आगे तेरे श्री हरि जाएगी झुक
राम नाम से जुड़े हैं ऐसे खुद से भी ना मिल पाए
कोई ना जाने किस चेहरे में राम हमें कल मिल जाए
वैसे तो मेरे दिल में हो पर आंखें प्यासी दर्शन की

शाम, सवेरे सारे मौसम राम गीत ही दिल गए
रघुवीर ये वींटी है तुम दूर करो अंधेरों को
दूर करो परेशानी के सारे भुखे शेरों को
शबरी बांके बैठा पर काले युग का प्राण हूं

मैं जूता भी ना कर दूंगा पापी मुह से बेरो को
बन चुका बैरागी दिल, नाम तेरा ही लेता है
शायर अपनी सांसें ये राम सिया को देता है

और नहीं इच्छा है अब जीने की मेरी राम यहां
बाद मुझे मेरी मौत के बस ले जाना तुम त्रेता में
शायद तुम्हे यह भी अच्छा लगे

अन्य बेहतरीन भजन:-


Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics In English

Bhajan – Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics

pata nahin kis roop mein aakaar naaraayan mil jaega
nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega
pata nahin kis roop mein aakaar naaraayan mil jaega
nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

pata nahin kis roop mein aakaar naaraayan mil jaega
nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

saans rukee tere darshan ko, na duniya mein mera lagata hai
shabaree baanke baitha hoon mera shree raam mein ataka man
bekaar mere dil ko main kitana bhee samajha loon
raam daras ke baad dil chorega ye dhadakan
kaale yug praani hoon par jeeta hoon main treta yug

karta hoon mahasus palon ko maana na vo dekha yug
dega yug kali ka ye paapon ke upahaar ka
chaand mera par gaane ka har praan ko dega sukh
hari katha ka vakt hoon main, raam bhajan kee aadat

raam aabhaaree shaayar, mil jo raahee hai daavat
hari katha suna ke main chor tumhen kal jaunga
baad mere na girane na dena hari katha viraasatat

paane ko deedaar prabhu ke nain bade ye taras hai
jaan sake na koee vedana raaton ko ye barase hai
kise pata kis mauke pe, kis bhoomi pe, kis kone mein
mele mein ya veeraane mein shree hari hamen darshan de

pata nahin kis roop mein aakaar naaraayan mil jaega
nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega
pata nahin kis roop mein aakaar naaraayan mil jaega
nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

pata nahin kis roop mein aakaar
intajaar mein baitha hoon kab beetega ye kaala yug
beetegee ye peeda aur bhaaree dil ke saare dukh
milane ko hoon bekaar par paap ka main bhaagee bhee

naazareen meree aage tere shree hari jaegee jhuk
raam naam se jude hain aise khud se bhee na mil pae
koee na jaane kis chehare mein raam hamen kal mil jae
vaise to mere dil mein ho par aankhen pyaasee darshan kee

shaam, savere saare mausam raam geet hee dil gae
raghuveer ye veentee hai tum door karo andheron ko
door karo pareshaanee ke saare bhukhe sheron ko
shabaree baanke baitha par kaale yug ka praan hoon

main joota bhee na kar doonga paapee muh se bero ko
ban chuka bairaagee dil, naam tera hee leta hai
shaayar apanee saansen ye raam siya ko deta hai

aur nahin ichchha hai ab jeene kee meree raam yahaan
baad mujhe meree maut ke bas le jaana tum treta mein
shaayad tumhe yah bhee achchha lage

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar
पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics जरुर पसंद आया होगा अगर आपको यह पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा लिरिक्स, Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Lyrics पसंद आया हो तो –

कमेंट करके जरूर बताएं एवं आप अपनी रिकवेस्ट भी हमे कमेंट करके बता सकते है, उस भजन या गीत आदि को जल्द से जल्द लाने की हमारी कोशिश रहेगी |

बॉलीवुड सोंग नोटेशन, सुपरहिट भजनों नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं और म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें |

और subscribe करें मेरे y o u t u b e चैनल Web Blogging Scholar को Website Designing, SEO, और ब्लॉग्गिंग सीखने के लिए |

धन्यवाद् – पवन शास्त्री

Share: