पपीहा बन बैन सुनावे निंद नहीं आवे | Papiha Ban Bain Holi Chautal

पपीहा बन बैन सुनावे निंद नहीं आवे | Papiha Ban Bain Holi Chautal in Hindi

पपीहा बन बैन सुनावे निंद नहीं आवे ||

आधीरात भई जब सखिया कामबिरह सन्तावे ||

पियबिन चैन मनहि नहिं आवत, सखि जोबन जोर जनावे ||१ ||

फागुन मस्त महीना सजनी पियबिन मोहिं न भावे ||

पवन झकोरत लुह जनु लागत, गोरी बैठी तहां पछितावे ||२ ||

सब सखि मिलकर फाग रचतहैं ||ढोल मृदंग बजावे ||

हाथ अबीर कनक पिचकारी हो, सखि देखत मन दुख पावे ||३ ||
हे बिधना मैं काहबिगाड़ो जनम अकारथ जावे ||

लालबिहारी कहत समुझाइ हो, गोरी धीरजमें सुख पावे ||४ ||

अन्य होली गीत –


पपीहा बन बैन सुनावे निंद नहीं आवे | Papiha Ban Bain Holi Chautal
पपीहा बन बैन सुनावे निंद नहीं आवे, Papiha Ban Bain Holi Chautal

छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com

Share: