शुभ कातिक सिर विचारी – होली बारहमासा चौताल, Holi Barahmasa Chautal Lyrics

इस Article में आपको शुभ कातिक सिर विचारी – होली बारहमासा चौताल, Holi Barahmasa Chautal Lyrics का हिंदी एवं English Lyrics भी दिया जा रहा है |

शुभ कातिक सिर विचारी – होली बारहमासा चौताल | Holi Barahmasa Chautal in Hindi

शुभ कातिक सिर विचारी, तजो वनवारी ||

जेठ मास तन तप्त अंग भावे नहीं सारी || तजो वनवारी ||

बाढ़े विरह अषाढ़ देत अद्रा झंकारी || तजो वनवारी ||

सावन सेज भयावन लागतऽ,

पिरतम बिनु बुन्द कटारी || तजो वनवारी ||

भादो गगन गंभीर पीर अति हृदय मंझारी,

करि के क्वार करार सौत संग फंसे मुरारी || तजो वनवारी ||

कातिव रास रचे मनमोहन,

द्विज पाव में पायल भारी || तजो वनवारी ||

अगहन अपित अनेक विकल वृषभानु दुलारी,

पूस लगे तन जाड़ देत कुबजा को गारी || तजो वनवारी ||

आवत माघ बसंत जनावत,

झूमर चौतार झमारी || तजो वनवारी ||

फागुन उड़त गुलाब अर्गला कुमकुम जारी,

नहिं भावत बिनु कंत चैत विरहा जल जारी,

दिन छुटकन वैसाख जनावत,

ऐसे काम न करहु विहारी || तजो वनवारी ||

अन्य होली गीत –


शुभ कातिक सिर विचारी – होली बारहमासा चौताल, Holi Barahmasa Chautal Lyrics
शुभ कातिक सिर विचारी – होली बारहमासा चौताल, Holi Barahmasa Chautal Lyrics

छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com

Share: