Gyanvapi Song Lyrics: Hansraj Raghuvanshi – मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स

Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi – मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स

मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे हिंदी में, Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics In Hindi

हैं विश्वनाथ बाबा
सबसे बड़ा प्रतापी
उसका ही बनारस है
उसका ही ज्ञानवापी

हैं विश्वनाथ बाबा
सबसे बड़ा प्रतापी
उसका ही बनारस है
उसका ही ज्ञानवापी
उसका ही ज्ञानवापी…

हम उसका कर्ज
सांस ये दे कर चुकाएंगे
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे

मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे…

हम भोले के भक्त हैं
फक्कर मिजाज वाले
मस्ती में हैं मगन हम
दुनिया से हैं निराले

हम भोले के भक्त हैं
फक्कर मिजाज वाले
मस्ती में हैं मगन हम
दुनिया से हैं निराले

हम काशी विश्वनाथ से
वादा निभाएंगे बाबा…
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे

मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे

आई भगवान की लहर है
मंदिर है सजने वाला
कैलाशी आये काशी
डमरू है बजने वाला

आई भगवान की लहर है
मंदिर है सजने वाला
कैलाशी आये काशी
डमरू है बजने वाला

बस उसके सामने ही
अपना सिर झुकाएंगे
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे

मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे
मंदिर जहां था
फिर वही मंदिर बनाएंगे

इसे भी पढ़ें (must be remembered):-

Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics In Hinglish

Gyanvapi Song Lyrics: Hansraj Raghuvanshi – मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स
मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स, Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics

hain vishvanaath baaba
sabase bada prataapee
usaka hee banaaras hai
usaka hee gyaanavaapee

hain vishvanaath baaba
sabase bada prataapee
usaka hee banaaras hai
usaka hee gyaanavaapee
usaka hee gyaanavaapee…

ham usaka karj
saans ye de kar chukaenge
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge

mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge…

ham bhole ke bhakt hain
phakkar mijaaj vaale
mastee mein hain magan ham
duniya se hain niraale

ham bhole ke bhakt hain
phakkar mijaaj vaale
mastee mein hain magan ham
duniya se hain niraale

ham kaashee vishvanaath se
vaada nibhaenge baaba…
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge

mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge

aaee bhagavaan kee lahar hai
mandir hai sajane vaala
kailaashee aaye kaashee
damaroo hai bajane vaala

aaee bhagavaan kee lahar hai
mandir hai sajane vaala
kailaashee aaye kaashee
damaroo hai bajane vaala

bas usake saamane hee
apana sir jhukaenge
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge

mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge
mandir jahaan tha
phir vahee mandir banaenge

Gyanvapi Song Lyrics: Hansraj Raghuvanshi – मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स
मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स, Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics

आशा करता हूँ की आपको यह मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स, Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics जरुर पसंद आया होगा अगर आपको यह मंदिर जहाँ था फिर वहीँ मंदिर बनाएँगे लिरिक्स, Gyanvapi Song: Hansraj Raghuvanshi Lyrics पसंद आया हो या आप कोई सुझाव देना चाहते हैं तो –

“कमेन्ट जरूर करें |”

बॉलीवुड सोंग नोटेशन, सुपरहिट भजनों नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं और म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें |


छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com