Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

इस Article में आपको Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स हिंदी और English LYRICS भी दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि यह Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स आपके लिए जरूर helpful साबित होगा |

Hanuman Vadvanal Stotra In Hindi | श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र इन संस्कृत

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स
Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

यहाँ – Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स दिया गया है-

भजन/मन्त्र -​​ Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

विभीषण ने हनुमानजी की स्तुति में एक बहुत ही अद्भुत और अचूक स्तोत्र की रचना की है। विभीषण द्वारा रचित इस स्तोत्र को ‘हनुमान वडवानल स्तोत्र’ कहते हैं। कहते हैं इंद्रा‍दि देवताओं के बाद धरती पर सर्वप्रथम विभीषण ने ही हनुमानजी की शरण लेकर उनकी स्तुति श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र से की थी।

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र विनियोग:

ॐ अस्य श्री हनुमान् वडवानल-स्तोत्र-मन्त्रस्य श्रीरामचन्द्र ऋषिः,
श्रीहनुमान् वडवानल देवता, ह्रां बीजम्, ह्रीं शक्तिं, सौं कीलकं,
मम समस्त विघ्न-दोष-निवारणार्थे, सर्व-शत्रुक्षयार्थे
सकल-राज-कुल-संमोहनार्थे, मम समस्त-रोग-प्रशमनार्थम्
आयुरारोग्यैश्वर्याऽभिवृद्धयर्थं समस्त-पाप-क्षयार्थं
श्रीसीतारामचन्द्र-प्रीत्यर्थं च हनुमद् वडवानल-स्तोत्र जपमहं करिष्ये।

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र ध्यान:

मनोजवं मारुत-तुल्य-वेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं।
वातात्मजं वानर-यूथ-मुख्यं श्रीरामदूतम् शरणं प्रपद्ये।।

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते प्रकट-पराक्रम
सकल-दिङ्मण्डल-यशोवितान-धवलीकृत-जगत-त्रितय
वज्र-देह रुद्रावतार लंकापुरीदहय उमा-अर्गल-मंत्र
उदधि-बंधन दशशिरः कृतान्तक सीताश्वसन वायु-पुत्र
अञ्जनी-गर्भ-सम्भूत श्रीराम-लक्ष्मणानन्दकर कपि-सैन्य-प्राकार
सुग्रीव-साह्यकरण पर्वतोत्पाटन कुमार-ब्रह्मचारिन् गंभीरनाद
सर्व-पाप-ग्रह-वारण-सर्व-ज्वरोच्चाटन डाकिनी-शाकिनी-विध्वंसन
ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महावीर-वीराय सर्व-दुःख निवारणाय
ग्रह-मण्डल सर्व-भूत-मण्डल सर्व-पिशाच-मण्डलोच्चाटन
भूत-ज्वर-एकाहिक-ज्वर, द्वयाहिक-ज्वर, त्र्याहिक-ज्वर
चातुर्थिक-ज्वर, संताप-ज्वर, विषम-ज्वर, ताप-ज्वर,
माहेश्वर-वैष्णव-ज्वरान् छिन्दि-छिन्दि यक्ष ब्रह्म-राक्षस
भूत-प्रेत-पिशाचान् उच्चाटय-उच्चाटय स्वाहा।

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रैं ह्रौं ह्रः आं हां हां हां हां
ॐ सौं एहि एहि ॐ हं ॐ हं ॐ हं ॐ हं
ॐ नमो भगवते श्रीमहा-हनुमते श्रवण-चक्षुर्भूतानां
शाकिनी डाकिनीनां विषम-दुष्टानां सर्व-विषं हर हर
आकाश-भुवनं भेदय भेदय छेदय छेदय मारय मारय
शोषय शोषय मोहय मोहय ज्वालय ज्वालय
प्रहारय प्रहारय शकल-मायां भेदय भेदय स्वाहा।

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महा-हनुमते सर्व-ग्रहोच्चाटन
परबलं क्षोभय क्षोभय सकल-बंधन मोक्षणं कुर-कुरु
शिरः-शूल गुल्म-शूल सर्व-शूलान्निर्मूलय निर्मूलय
नागपाशानन्त-वासुकि-तक्षक-कर्कोटकालियान्
यक्ष-कुल-जगत-रात्रिञ्चर-दिवाचर-सर्पान्निर्विषं कुरु-कुरु स्वाहा।
ॐ ह्रां ह्रीं ॐ नमो भगवते महा-हनुमते
राजभय चोरभय पर-मन्त्र-पर-यन्त्र-पर-तन्त्र
पर-विद्याश्छेदय छेदय सर्व-शत्रून्नासय
नाशय असाध्यं साधय साधय हुं फट् स्वाहा।

।। इति विभीषणकृतं हनुमद् वडवानल स्तोत्रं ।।

अन्य बेहतरीन भजन:-


Hanuman Vadvanal Stotra In English

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स
Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

Bhajan/Mantra -​​ Hanuman Vadvanal Stotra

Vibheeṣaṇa ne hanumaanajee kee stuti men ek bahut hee adbhut aur achook stotr kee rachanaa kee hai. Vibheeṣaṇa dvaaraa rachit is stotr ko ‘hanumaan vaḍaavaanal stotr’ kahate hain. Kahate hain indraa‍di devataa_on ke baad dharatee par sarvapratham vibheeṣaṇa ne hee hanumaanajee kee sharaṇa lekar unakee stuti shree hanumaan vaḍaavaanal stotr se kee thee. Hanuman advanal stotra shree hanumaan vaḍaavaanal stotr liriks

viniyog:

om asy shree hanumaan vaḍaavaanal-stotr-Mantraasy shreeraamachandr rriṣiah,
shreehanumaan vaḍaavaanal devataa, hraan beejam, hreen shaktin, saun keelakn,
mam samast vighn-doṣ-nivaaraṇaarthe, sarv-shatrukṣayaarthe
sakal-raaj-kul-snmohanaarthe, mam samast-rog-prashamanaartham
aayuraarogyaishvaryaa. Abhivriddhayarthn samast-paap-kṣayaarthn
shreeseetaaraamachandr-preetyarthn ch hanumad vaḍaavaanal-stotr japamahn kariṣye. Dhyaanah

manojavn maarut-tuly-vegn jitendriyn buddhimataan variṣṭhn. Vaataatmajn vaanar-yooth-mukhyn shreeraamadootam sharaṇan prapadye.. Om hraan hreen om namo bhagavate shreemahaa-hanumate prakaṭ-paraakram
sakal-di~nmaṇaḍaal-yashovitaan-dhavaleekrit-jagat-tritay
vajr-deh rudraavataar lnkaapureedahay umaa-argal-mntr
udadhi-bndhan dashashirah kritaantak seetaashvasan vaayu-putr
a~njanee-garbh-sambhoot shreeraam-lakṣmaṇaanandakar kapi-sainy-praakaar
sugreev-saahyakaraṇa parvatotpaaṭan kumaar-brahmachaarin gnbheeranaad
sarv-paap-grah-vaaraṇa-sarv-jvarochchaaṭan ḍaakinee-shaakinee-vidhvnsan
om hraan hreen om namo bhagavate mahaaveer-veeraay sarv-duahkh nivaaraṇaay
grah-maṇaḍaal sarv-bhoot-maṇaḍaal sarv-pishaach-maṇaḍaalochchaaṭan
bhoot-jvar-ekaahik-jvar, dvayaahik-jvar, tryaahik-jvar
chaaturthik-jvar, sntaap-jvar, viṣam-jvar, taap-jvar,
maaheshvar-vaiṣṇaav-jvaraan chhindi-chhindi yakṣ brahm-raakṣas
bhoot-pret-pishaachaan uchchaaṭay-uchchaaṭay svaahaa. Om hraan hreen om namo bhagavate shreemahaa-hanumate

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

om hraan hreen hroon hrain hraun hrah aan haan haan haan haan
om saun ehi ehi om hn om hn om hn om hn
om namo bhagavate shreemahaa-hanumate shravaṇa-chakṣurbhootaanaan
shaakinee ḍaakineenaan viṣam-duṣṭaanaan sarv-viṣn har har
aakaash-bhuvann bheday bheday chheday chheday maaray maaray

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स
Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

shoṣay shoṣay mohay mohay jvaalay jvaalay
prahaaray prahaaray shakal-maayaan bheday bheday svaahaa. Om hraan hreen om namo bhagavate mahaa-hanumate sarv-grahochchaaṭan
parabaln kṣobhay kṣobhay sakal-bndhan mokṣaṇan kur-kuru
shirah-shool gulm-shool sarv-shoolaannirmoolay nirmoolay
naagapaashaanant-vaasuki-takṣak-karkoṭakaaliyaan
yakṣ-kul-jagat-raatri~nchar-divaachar-sarpaannirviṣn kuru-kuru svaahaa. Om hraan hreen om namo bhagavate mahaa-hanumate

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

raajabhay chorabhay par-Mantra-par-yantr-par-tantr
par-vidyaashchheday chheday sarv-shatroonnaasay
naashay asaadhyn saadhay saadhay hun faṭ svaahaa.

.. Iti vibheeṣaṇaakritn hanumad vaḍaavaanal stotrn ..

Hanuman Vadvanal Stotra श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स
Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स

Benefits Of Hanuman Vadvanal Stotra

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र पाठ करने से क्या लाभ हैं?

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र ( Hanuman Vadvanal Stotra)पाठ करने से हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है | इन नामों का जाप पूरी श्रद्धा से करते है तो इससे आपको धन-धान्य की प्राप्ति होती है | हनुमान जी आपके सारे कष्टों को हर लेते हैं | यदि आपके मन में डर या कोई परेशानी है तो हनुमान जी के इन नामों का जाप जरूर करें तो आपको मन को शांति मिलेगी | इसका जाप करने से सारे बिगड़े काम बनेंगे और आपके जीवन में हमेशा सकारत्मकता बनी रहेगी |

श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र कब करना चाहिए?

मंगलवार के दिन श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र करना अति शुभ माना गया है। श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र का पाठ यदि मंगलवार से प्रारम्भ करते हैं तो आपको शुभ फलों की प्राप्ति होती है और आपके तेज में वृद्धि होती है।

हनुमान जी का कौन सा मंत्र जपना चाहिए?

मनोजवं मारुततुल्यवेगं, जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठम्। वातात्मजं वानरयूथमुख्यं, श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्ये॥ मान्यता है कि इस मंत्र का जाप करने से भगवान हनुमान प्रसन्न होते हैं, वे अपने भक्तों को सुख एवं समृद्धि प्रदान करते हैं।

हनुमान जी का सबसे शक्तिशाली मंत्र कौन सा है?

मंगलवार को कौन सा मंत्र बोलना चाहिए?
ॐ पूर्वकपिमुखाय पच्चमुख हनुमते टं टं टं टं टं सकल शत्रु सहंरणाय स्वाहा। शत्रु संहार के लिए हनुमान जी के इस मंत्र का जाप किया जाता है।

ॐ हं हनुमते नमः का क्या अर्थ है?

ॐ हं हनुमते नमः मंत्र: एक सरल अर्थ होगा ” भगवान हनुमान की स्तुति ।” एक गहरा अनुवाद है: “ओम और शुद्ध भक्ति के अवतार हनुमान को नमस्कार। मुझे जीत, सफलता, शक्ति, सहनशक्ति और शक्ति का आशीर्वाद मिले।”

हनुमान जी से प्रार्थना कैसे करें?

हनुमान जी स्वयं की प्रार्थना से उतने प्रसन्न नहीं होते , जितने कि “श्रीराम” की प्रार्थना से . – जीवन में किसी भी समस्या के निवारण के लिए पीपल के पत्ते पर चमेली के तेल और सिन्दूर से “राम-राम” लिखकर हनुमान जी को अर्पित करें . – इसके बाद अपनी समस्याओं के निवारण के लिए प्रार्थना करें.

Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स जरुर पसंद आया होगा अगर आपको यह Hanuman Vadvanal Stotra, श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र लिरिक्स पसंद आया हो तो –

कमेंट करके जरूर बताएं एवं आप अपनी रिकवेस्ट भी हमे कमेंट करके बता सकते है, उस भजन या गीत आदि को जल्द से जल्द लाने की हमारी कोशिश रहेगी |

रागों की बंदिशों के हिंदी नोटेशन, फ़िल्मी गानों के हिंदी नोटेशन, सुपरहिट भजनों के हिंदी नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु, और टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारी पाने के लिए   “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर F O L L O W करें |

और S U B S C R I B E करें मेरे y o u t u b e चैनल “sur sarita techknow-Youtube” “S U R  S A R I T A  T E C H K N O W” – You tube को |

P L E A S E   C O M M E N T और शेयर जरूर करें ||

धन्यवाद्
पवन शास्त्री ( सुर सरिता भजन )

Thank you

Share on:

Leave a Comment