51 Best Chetawani Bhajan Lyrics, चेतावनी भजन लिरिक्स हिंदी

इस Artical में आपको बहुत ही प्रिय व सुपरहिट 51 Best Chetawani Bhajan Lyrics, चेतावनी भजन लिरिक्स हिंदी दिया जा रहा है |

51 Best Chetawani Bhajan Lyrics | चेतावनी भजन लिरिक्स इन हिंदी

दो दिन का जगत में मेला ओ पापी मन कर ले भजन ज़िन्दगी इक किराये का घर है
यहाँ वहां मत डोल प्राणी कलयुग बैठा मार कुंडली जायेगा जब यहाँ से
एक हरी को छोड़ किसी की नबजिया बैद क्या जाने कुछ पल की जिंदगानी इक रोज सबको जाना
रे बाँसवा कहे पियरी तोरी पाती जनम तेरा बातो ही बीत गयो मानुष जनम अनमोल रे
मैली चादर ओढ़ के लिरिक्स चदरिया झीनी रे झीनी लिरिक्स चदरिया झीनी रे झीनी लिरिक्स

५१ से अधिक चेतावनी भजनों के लिए चेतावनी भजन लिरिक्स की कैटेगरी पर क्लिक करें –

51 Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ नीचे चेतावनी के सबसे प्यारे व सबसे पोपुलर 51 Best Chetawani Bhajan Lyrics, चेतावनी भजन लिरिक्स हिंदी दिया गया है  –

भला किसी का कर ना सको तो | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Bhala kisi ka kar na sako to bura kisi ka mat karna lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ Bhala kisi ka kar na sako to bura kisi ka mat karna lyrics In Hindi दिया गया है –

|| फ़िल्मी तर्ज – क्या मिलिए ऐसे लोगों से ||

भला किसी का कर ना सको तो,
बुरा किसी का मत करना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

बन ना सको भगवान अगर तुम,
कम से कम इंसान बनो |
नहीं कभी शैतान बनो तुम,
नहीं कभी हैवान बनो ||

सदाचार अपना न सको तो,
पापों में पग मत धरना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

सत्य वचन ना बोल सको तो,
झूठ कभी भी मत बोलो |
मौन रहो तो ही अच्छा,
कम से कम विष तो मत घोलो ||

बोलो यदि पहले तुम तोलो,
फिर मुंह को खोला करना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

घर ना किसी का बसा सको तो,
झोपड़ियां ना जला देना |
मरहम पट्टी कर ना सको तो,
खार नमक ना लगा देना ||

दीपक बन कर जल ना सको तो,
अंधियारा ना फैला देना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

अमृत पिला ना सके किसी को,
ज़हर पिलाते भी डरना |
धीरज बंधा नहीं सको तो,
घाव किसी के मत करना ||

राम नाम की माला ले कर,
सुबह श्याम भजन करना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

भला किसी का कर ना सको तो,
बुरा किसी का मत करना |
पुष्प नहीं बन सकते तो तुम,
कांटे बन कर मत रहना ||

इसे भी पढ़ें –

  • 501+ Popular  हिंदी भजन लिरिक्स
  • Top 10 सत्संग भजन लिरिक्स इन हिंदी

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं | Best Chetawani Bhajan Lyrics

    Kabhi pyase ko pani lyrics
    Best Chetawani Bhajan Lyrics

    यहाँ Kabhi pyase ko pani lyrics, कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं लिरिक्स दिया गया है –

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा |
    कभी गिरते हुए को उठाया नहीं,
    बाद आंसू बहाने से क्या फ़ायदा ||

    मैं तो मंदिर गया, पूजा आरति की,
    पुजा करते हुए ये ख़याल आ गया |
    कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं,
    सिर्फ पूजा के करने से क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    मैं तो सतसंग गया, गुरु वानी सुनी,
    गुरु वानी को सुन के ख्याल आ गया |
    जनम मानव का ले के दया ना करी,
    फिर मानव कहलाने से क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    मैंने दान किया मैंने जप तप किया
    दान करते हुए यह खयाल आ गया |
    कभी भूखे को भोजन खिलाया नहीं
    दान लाखों का करने से क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    गंगा नहाने हरीद्वार काशी गया,
    गंगा नहाते ही मन में खयाल आ गया ||
    तन को धोया मगर मन को धोया नहीं
    फिर गंगा नहाने से क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    मैंने वेद पढ़े मैंने शास्त्र पढ़े,
    शास्त्र पढते हुए यह ख्याल आ गया |
    मैंने ज्ञान किसी को बांटा नहीं,
    फिर ग्यानी कहलाने से क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    माँ – पिता के ही चरणों में ही चारो धाम है,
    आजा आजा यही मुक्ति का धाम है |
    पिता माता की सेवा की ही नहीं
    फिर तीर्थों में जाने का क्या फ़ायदा ||

    कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं,
    बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा ||

    इसे भी पढ़ें:-


एक डोली चली एक अर्थी चली | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Ek doli chali ek arthi chali lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ Ek doli chali ek arthi chali lyrics, एक डोली चली एक अर्थी चली लिरिक्स दिया गया है –

दोहा –
याद रख सिकंदर के हौसले आली थे |
जब गया दुनिया से तो
दोनों हाथ खाली थे ||

एक डोली चली,एक अर्थी चली
फर्क दोनों में क्या,ये बता दे सखी।

चार तुझमे लगे ,चार मुझमे लगे।
फूल तुझ पर चढ़े ,फूल मुझ पर चढ़े।
फर्क दोनों में क्या ,अरे सुन ले सखी।
तू पिया को चली ,में पिया से चली।

एक डोली चली,एक अर्थी चली।
फर्क दोनों में क्या,ये बता दे सखी।
मांग तेरी भरी,मांग मेरी भरी।
चूड़ी तेरी हरी,चूड़ी मेरी हरी |

फर्क दोनों में क्या,अरे सुन ले सखी।
तू विदा हो चली,में अलविदा हो चली।

एक डोली चली,एक अर्थी चली।
फर्क दोनों में क्या,ये बता दे सखी ||

तुझे देखे पिया,तेरे हसते हुए।
मुझे देखे पिया,मेरे रोते हुए
फर्क दोनों में क्याअरे सुन ले सखी।
तेरी साल गिरा पे ,मेरी बरसी हुई |

एक डोली चली,एक अर्थी चली।
फर्क दोनों में क्या,ये बता दे सखी।

तू तो बैठ के चली ,में लेट के चली।
तू घर बसाने चली ,में शमसान चली।
फर्क दोनों में क्या ,अरे सुन ले सखी।
तू लकड़ी से चली ,और में लकड़ी में जली ||

एक डोली चली,एक अर्थी चली।
फर्क दोनों में क्या,ये बता दे सखी।

इसे भी पढ़ें:-


जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा | Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

भजन गायक- सुरेश अवस्थी जी
भजन- जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा ||

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||
काल से बच ना पाएगा छोटा बड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||

ठाट सारे पड़े के पड़े रह गये,
सारे धनवा गढ़े के गढ़े रह गये |
अन्त मे लखपति को ना ढेला मिला,
हन्स जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||

बेबसो को सताने से क्या फायदा,
झूठ अपजस कमाने से क्या फायदा |
दिल किसी का दुखाने से क्या फायदा,
नीम के सथ जेसे करेला जुड़ा ||
हन्स जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा।।

राज राजे रहे, ना वो रानी रही,
ना बुढ़ापा रहा, ना जवानी रही |
ये तो कहने को केवल कहानी रही,
चार दिन का जगत मे झमेला रहा ||
हन्स जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा।।

जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||
जिंदगी में हजारों का मेला जुड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||
काल से बच ना पाएगा छोटा बड़ा,
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा ||

अन्य मनमोहक भजन-


ओ मूरख बंदे क्या है रे जग मे तेरा | Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ ओ मूरख बंदे क्या है रे जग मे तेरा लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

ओ मूरख बंदे क्या है रे जग मे तेरा लिरिक्स, O Murakh Bande Lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

ओ मूरख बंदे, क्या है रे जग मे तेरा,
ये तो सब झूठा सपना है,
ये तो सब झूठा सपना है ||
क्या तेरा क्या मेरा, मूरख बंदे,
क्या है रे जग मे तेरा ||

कितनी ही माया जोड ले,
कितने हि महल बनाले,
तेरे मरने के बाद सुन, तेरे ये घर वाले,
दो गज कफ़न उड़ाकर तुझसे,
दो गज कफ़न उड़ाकर तुझसे ||
छीन लेगे ये सब तेरा,
मुरख बन्दे, क्या है रे जग मे तेरा ||

कोठी बंगला कार देख तू,
क्यु इतना इतराता है,
पत्नी ओर बच्चो के बिच तू,
फ़ुला नही समाता है,
चार दिनो कि चान्दनी ये,
चार दिनो कि चान्दनी ये ||
फ़िर आयेगा अन्धेरा,
मूरख बंदे, क्या है रे जग मे तेरा।।

मूरख अपनी मुक्ति का तू,
जल्दी कर उपाय,
किस दिन किस घडी तेरी ये,
बाह पकड़ ले जाये,
तेरे साथ मे घूम रहा है,
तेरे साथ मे घूम रहा है ||
बनकर काल लुटेरा,
मूरख बंदे, क्या है रे जग मे तेरा ||

पाप कमाया तूने बहुत अब,
थोड़ा पुण्य कमाले,
कुछ तो समय है अब मानव तू,
राम नाम गुण गाले,
राम नाम से मिट जायेगा,
राम नाम से मिट जायेगा ||
जनम मरण का फ़ेरा,
मूरख बंदे, क्या है रे जग मे तेरा ||

ओ मूरख बंदे, क्या है रे जग मे तेरा,
ये तो सब झूठा सपना है,
ये तो सब झूठा सपना है ||
क्या तेरा क्या मेरा, मूरख बंदे,
क्या है रे जग मे तेरा ||


मनुष जनम अनमोल रे | Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ Manush Janam Anmol Re Lyrics, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

Manush Janam Anmol Re Lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

मनुष जनम अनमोल रे,
मिट्टी मे ना रोल रे,
अब जो मिला है फ़िर ना मिलेगा,
कभी नही कभी नही रे||
ॐ साई नमो नमः,
श्री साई नमो नमः ||

तु सत्संग मे आया कर,
गीत प्रभु के गाया कर,
साँझ सवेरे बेठ के बन्दे,
गीत प्रभु के गाया कर |

नही लगता कुछ मोल रे,
मिट्टी मे ना रोल रे,
अब जो मिला है फ़िर ना मिलेगा,
कभी नही कभी नही रे||

तु है बूद बूद पानी का,
मत कर जोर जवानी का,
समझ समझ के क़दम रखो,
पता नही ज़िन्दगानी का |

सबसे मीठा बोल रे,
मिट्टी मे ना रोल रे,
अब जो मिला है फ़िर ना मिलेगा,
कभी नही कभी नही रे||

मतलब का संसार है,
इसका क्या ऐतबार है,
सम्भल सम्भल के क़दम रखो,
फूल नही अंगार है |

मन की आँखे खोल रे,
मिट्टी मे ना रोल रे,
अब जो मिला है फ़िर ना मिलेगा,
कभी नही कभी नही रे||

मनुष जनम अनमोल रे,
मिट्टी मे ना रोल रे,
अब जो मिला है फ़िर ना मिलेगा,
कभी नही कभी नही रे||
ॐ साई नमो नमः श्री साई नमो नमः ||


प्रभु मेरे अवगुण चित ना धरो | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Prabhu Mere Awagun Chit Na Dharo Lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ – प्रभु मेरे अवगुण चित ना धरो लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

अवगुण चित ना धरो प्रभु मेरे
प्रभु मेरे अवगुण चित ना धरो,
समदर्शी प्रभु नाम तिहारो,
चाहो तो पार करो ||

एक लोहा पूजा मे राखत,
एक घर बधिक परो,
सो दुविधा पारस नहीं देखत,
कंचन करत खरो ||

एक नदिया एक नाल कहावत,
मैलो नीर भरो,
जब मिलिके दोऊ एक बरन भये,
सुरसरी नाम परो ||

एक माया एक ब्रह्म कहावत,
सुर श्याम झगरो,
अबकी बेर मोही पार उतारो,
नहि पन जात तरो ||


जनम तेरा बातों ही बीत गयो | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Janam Tera Baaton Hi Beet Gayo Lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ – जनम तेरा बातों ही बीत गयो लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

जनम तेरा बातों ही बीत गयो,
रे तूने कबहूँ न कृष्ण कह्यो ||

पाँच बरस को भोला भाला,
अब तो बीस भयो,
मकर पचीसी माया कारन |
देश विदेश गयो,
पर तूने कबहूँ न कृष्ण कह्यो,
जनम तेरा बातों ही बीत गयो ||

तीस बरस की अब मति उपजी,
लोभ बढ़े नित नयो,
माया जोड़ी तूने लाख करोड़ी |
पर अजहू न तृप्त भयो,
जनम तेरा बातों ही बीत गयो,
रे तूने कबहूँ न कृष्ण कह्यो ||

वृद्ध भयो तब आलस उपज्यो,
कफ नित कंठ नयो,
साधू संगति कबहू न किन्ही |
बिरथा जनम गयो,
जनम तेरा बातो ही बीत गयो,
रे तूने कबहूँ न कृष्ण कह्यो ||

यो जग सब मतलब को लोभी,
झूठो ठाठ ठयो,
कहत कबीर समझ मन मूरख |
तूं क्यूँ भूल गयो,
जनम तेरा बातो ही बीत गयो,
रे तूने कबहूँ न कृष्ण कह्यो ||


रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Re Baswa Kahe Piyari Tori Pati Lyrics

Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ – रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती लिरिक्स, Re Baswa Kahe Piyari Tori Pati Lyrics दिया गया है-

काहें पियरी तोरी पाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती |
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

जाती हमारी काँटी कटीली,
पोर – पोर पर गांठी,
हो ss गांठी |
फूलत है फल आवत नाहीं,
लोग कहत हमें पापी,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती |
हो बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

अंधन को मैं राह बताऊँ,
नाम हमारो पड़ो लाठी,
हो ss लाठी |

अंधन को मैं राह बताऊँ,
नाम हमारो पड़ो लाठी,
जिनके घर में गाय बियानी,
तोड़त है मोरी पाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती |
हो बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

काहें पियरी तोरी पाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

भूखन को फल तोड़ खिलाऊं,
गहरी नदिया थाह लगाऊं,

भूखन को फल तोड़ खिलाऊं,
गहरी नदिया थाह लगाऊं,
समय पड़े पर काम मैं आऊं,
दुश्मन की तोड़ देऊ छाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती |
हो बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

काहें पियरी तोरी पाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

हमरे के s सिरवा बनावत,
हमरे बनावत पाटी,

हमरे के s सिरवा बनावत,
हमरे बनावत पाटी,
कहत कबीर बांस के यह गुण,
कहत कबीर बांस के यह गुण,
मरघट तक है साथी |
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती |
हो बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||

काहें पियरी तोरी पाती,
रे बंसवा काहें पियरी तोरी पाती ||


नही चाहिये दिल दुखाना किसी का | Best Chetawani Bhajan Lyrics

Nahi Chahiye Dil Dukhana Kisi Ka Lyrics
Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ – नही चाहिये दिल दुखाना किसी का लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है-

भजन – नही चाहिये दिल दुखाना किसी का लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics

नही चाहिये दिल दुखाना किसी का,
सदा ना रहा है सदा ना रहेगा,
सदा ना रहा है सदा ना रहेगा,
जमाना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||

आयेगा बुलावा तो जाना पड़ेगा,
सर तुझ को आखिर झुकाना पड़ेगा,
वहाँ ना चलेगा बहाना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||

शोहरत तुम्हारी बह जायेगी ये,
दौलत यही पर रह जायेगी ये,
नही साथ जाता खजाना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||

पहले तो तुम अपने आप को सम्भलौ,
हक है नही तुमको बुराई औरों मे निकालो,
बुरा है बुरा जग मे बताना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||

दुनिया का गुलशन सदा ही रहेगा,
ये जहाँ मे लगा ही रहेगा,
आना किसी का जग मे जाना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||

नही चाहिये दिल दुखाना किसी का,
सदा ना रहा है सदा ना रहेगा,
सदा ना रहा है सदा ना रहेगा,
जमाना किसी का,
नही चाहिये दिल दुखाना किसी का ||


एक डाल दो पंछी रे बैठा | Best Chetawani Bhajan Lyrics

यहाँ एक डाल दो पंछी रे बैठा लिरिक्स, Best Chetawani Bhajan Lyrics दिया गया है –

एक डाल दो पंछी बैठा,
कौन गुरु कौन चेला |

गुरु की करनी गुरु भरेगा,
गुरु की करनी गुरु भरेगा |

चेला की करनी चेला रे साधु भाई,
उड़ जा हंस अकेला ||

माटी चुन चुन महल बनाया,
लोग कहे घर मेरा |

ना घर तेरा ना घर मेरा,
ना घर तेरा ना घर मेरा |

चिड़िया रैन बसेरा रे साधु भाई,
उड़ जा हंस अकेला ||

माता कहे ये पुत्र हमारा,
बहन कहे ये वीरा |

भाई कहे ये भुजा हमारी,
भाई कहे ये भुजा हमारी |

नारी कहे नर मेरा रे साधु भाई,
उड़ जा हंस अकेला ||

पेट पकड़ के माता रोई,
बांह पकड़ के भाई |

लपट झपट के तिरिया रोये,
लपट झपट के तिरिया रोये |

हंस अकेला जाई रे साधु भाई,
उड़ जा हंस अकेला ||

कौड़ी कौड़ी माया जोड़ी,
जोड़ भरेला थैला |

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
कहत कबीर सुनो भाई साधो |

संग चले ना ढेला रे साधुभाई,
उड़ जा हंस अकेला ||

एक डाल दो पंछी बैठा,
कौन गुरु कौन चेला |

गुरु की करनी गुरु भरेगा,
गुरु की करनी गुरु भरेगा |

चेला की करनी चेला रे साधु भाई,
उड़ जा हंस अकेला ||


51 Best Chetawani Bhajan Lyrics, चेतावनी भजन लिरिक्स हिंदी जरुर पसंद आया होगा अगर आपको यह 51 Best Chetawani Bhajan Lyrics, चेतावनी भजन लिरिक्स हिंदी पसंद आया हो तो –

कमेंट करके जरूर बताएं एवं आप अपनी रिकवेस्ट भी हमे कमेंट करके बता सकते है, उस भजन या गीत आदि को जल्द से जल्द लाने की हमारी कोशिश रहेगी |

बॉलीवुड सोंग नोटेशन, सुपरहिट भजनों नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं और म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें |


छोटे रसोई उपकरणों, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे मिक्सर ब्लेंडर, कूकर, ओवन, फ्रिज, लैपटॉप, मोबाइल फोन और टेलीविजन आदि सटीक तुलनात्मक विश्लेषण के लिए उचित कीमत आदि जानने के लिए क्लिक करें – TrustWelly.com

धन्यवाद 

  • पवन शास्त्री
Share:

Leave a Comment