Hanuman Ashtak Lyrics संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स

इस Article में आपको संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Sankatmochan Hanuman Ashtak Lyrics का हिंदी एवं English Lyrics भी दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि यह – संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Sankatmochan Hanuman Ashtak Lyrics जरूर Helpful होगा |

संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Sankatmochan Hanuman Ashtak Lyrics In Hindi

Hanuman Ashtak Lyrics
Hanuman Ashtak Lyrics, संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स

यहाँ – संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Sankatmochan Hanuman Ashtak Lyrics दिया गया है-

भजन – संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Sankatmochan Hanuman Ashtak Lyrics

हनुमान जयंती के दिन अवश्य करें एवं प्रतिदिन भी करें हनुमानाष्टक का पाठ

बाल समय रवि भक्षी लियो तब,
तीनहुं लोक भयो अंधियारों ||
ताहि सों त्रास भयो जग को,
यह संकट काहु सों जात न टारो ||

देवन आनि करी बिनती तब,
छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि,
जात महाप्रभु पंथ निहारो ||
चौंकि महामुनि साप दियो तब,
चाहिए कौन बिचार बिचारो ||

कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु,
सो तुम दास के सोक निवारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

अंगद के संग लेन गए सिय,
खोज कपीस यह बैन उचारो ||
जीवत ना बचिहौ हम सो जु,
बिना सुधि लाये इहां पगु धारो ||

हेरी थके तट सिन्धु सबे तब,
लाए सिया-सुधि प्राण उबारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

रावण त्रास दई सिय को सब,
राक्षसी सों कही सोक निवारो ||
ताहि समय हनुमान महाप्रभु,
जाए महा रजनीचर मरो ||

चाहत सीय असोक सों आगि सु,
दै प्रभु मुद्रिका सोक निवारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

बान लाग्यो उर लछिमन के तब,
प्राण तजे सूत रावन मारो ||
लै गृह बैद्य सुषेन समेत,
तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो ||

आनि सजीवन हाथ दिए तब,
लछिमन के तुम प्रान उबारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

रावन जुध अजान कियो तब,
नाग कि फांस सबै सिर डारो ||
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल,
मोह भयो यह संकट भारो ||

आनि खगेस तबै हनुमान जु,
बंधन काटि सुत्रास निवारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

बंधू समेत जबै अहिरावन,
लै रघुनाथ पताल सिधारो ||
देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि,
देउ सबै मिलि मंत्र विचारो ||

जाये सहाए भयो तब ही,
अहिरावन सैन्य समेत संहारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

काज किए बड़ देवन के तुम,
बीर महाप्रभु देखि बिचारो ||
कौन सो संकट मोर गरीब को,
जो तुमसे नहिं जात है टारो ||

बेगि हरो हनुमान महाप्रभु,
जो कछु संकट होए हमारो ||
को नहीं जानत है जग में कपि,
संकटमोचन नाम तिहारो ||

|| || दोहा || ||
लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर ||
वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर || ||

अन्य मनमोहक भजन:-


Hanuman Ashtak Lyrics In English | SanKat Mochan Hanuman Ashtak Lyrics

Hanuman Ashtak Lyrics
Hanuman Ashtak Lyrics, संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स

In this article, you are also being given the Hindi and English lyrics of Hanuman Ashtak Lyrics In English, SanKat Mochan Hanuman Ashtak Lyrics and I hope that Hanuman Ashtak Lyrics In English, SanKat Mochan Hanuman Ashtak Lyrics is helpful for you.

Bhajan – SanKat Mochan Hanuman Ashtak Lyrics

baal samay ravi bhakshee liyo tab,
teenahun lok bhayo andhiyaaron ||
taahi son traas bhayo jag ko,
yah sankat kaahu son jaat na taaro ||

devan aani karee binatee tab,
chhaadee diyo ravi kasht nivaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

baali kee traas kapees basain giri,
jaat mahaaprabhu panth nihaaro ||
chaunki mahaamuni saap diyo tab,
chaahie kaun bichaar bichaaro ||

kaidvij roop livaay mahaaprabhu,
so tum daas ke sok nivaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

angad ke sang len gae siy,
khoj kapees yah bain uchaaro ||
jeevat na bachihau ham so ju,
bina sudhi laaye ihaan pagu dhaaro ||

heree thake tat sindhu sabe tab,
lae siya-sudhi praan ubaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

raavan traas daee siy ko sab,
raakshasee son kahee sok nivaaro ||
taahi samay hanumaan mahaaprabhu,
jae maha rajaneechar maro ||

chaahat seey asok son aagi su,
dai prabhu mudrika sok nivaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

baan laagyo ur lachhiman ke tab,
praan taje soot raavan maaro ||
lai grh baidy sushen samet,
tabai giri dron su beer upaaro ||

aani sajeevan haath die tab,
lachhiman ke tum praan ubaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

raavan judh ajaan kiyo tab,
naag ki phaans sabai sir daaro ||
shreeraghunaath samet sabai dal,
moh bhayo yah sankat bhaaro ||

aani khages tabai hanumaan ju,
bandhan kaati sutraas nivaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

bandhoo samet jabai ahiraavan,
lai raghunaath pataal sidhaaro ||
debinheen pooji bhali vidhi son bali,
deu sabai mili mantr vichaaro ||

jaaye sahae bhayo tab hee,
ahiraavan sainy samet sanhaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

kaaj kie bad devan ke tum,
beer mahaaprabhu dekhi bichaaro ||
kaun so sankat mor gareeb ko,
jo tumase nahin jaat hai taaro ||

begi haro hanumaan mahaaprabhu,
jo kachhu sankat hoe hamaaro ||
ko nahin jaanat hai jag mein kapi,
sankatamochan naam tihaaro ||

Hanuman Ashtak Lyrics
Hanuman Ashtak Lyrics, संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स

संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Hanuman Ashtak Lyrics

Hanuman Ashtak (हनुमान अष्टक) का पाठ यदि प्रतिदिन नियमित रूप से 108 बार किया जाय तो हनुमान अष्टक का पाठ इतना अधिक प्रभावशाली होता है कि जिससे जीवन में एक नई ऊर्जा का संचार होता है | हनुमान अष्टक को 108 बार नित्य पढने से शारीरिक व मानशिक रोग, तनाव एवं प्रेत बाधा से मुक्ति मिलती है | सभी को हनुमान अष्टक का पाठ 108 बार नियमित रूप से करना चाहिए |

Hanuman Ashtak (हनुमान अष्टक) का पाठ करने के लिए स्नान आदि से निवृत होकर हनुमान अष्टक पाठ से पहले विघ्न विनाशक गणपति जी की आराधना करें फिर राम और सीता जी का ध्यान करें उसके बाद हनुमान जी को प्रणाम करके हनुमान जी का ध्यान धरें | इस के बाद हनुमान अष्टक पाठ का संकल्प करें फिर हनुमान जी को फूल, धूप-दीप और नैवेद्य चढ़ाकर पूजन करें | अब हनुमान अष्टक का पाठ करें और हनुमान अष्टक पढने के बाद हनुमान जी की आरती करें |

शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि महिलाये हनुमान जी की पूजा व Hanuman Ashtak (हनुमान अष्टक) का पाठ पूरी तरह से वर्जित तो नहीं हैं लेकिन कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है जैसे : महिलाएं हनुमान जी को जनेऊ, सिन्दूर, आसन, चरण पादुकाएं, चोला, कपड़ों का जोड़ा व पंचामृत स्नान अर्पित नहीं कर सकती हैं, तथा लम्बे अनुष्ठान वर्जित है |

के लिए हनुमान अष्टक के पाठ की शुरुआत मंगलवार या शनिवार से करना चाहिए | Hanuman Ashtak (हनुमान अष्टक) का पाठ शुरू करनें के बाद उसे चालीस दिनों तक करना चाहिए उसके बाद आपको ग्यारह शनिवार और ग्यारह मंगलवार तक इक्कीस पाठ करनें होते हैं | इस विधि से हनुमान अष्टक का पाठ करनें से हनुमान जी जल्दी प्रसन्न होते हैं |

हनुमान अष्टक का पाठ करने से बुरी शक्तियों की बाधा कभी नहीं सताती है और हनुमान अष्टक का पाठ करने वाला व्यक्ति ओजवान हो जाता है तथा उसे शत्रु कभी पराजित नहीं कर सकता है एवं उस पर ग्रहनक्षत्रो के बुरे प्रभाव भी नहीं पड़ते शनि की साढ़े साती भी हनुमान अष्टक का पाठ करने वाले पर निष्क्रिय हो जाती है |

आशा करता हूँ की आपको संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Hanuman Ashtak Lyrics पसंद आया होगा अगर आपको संकट मोचन हनुमान अष्टक लिरिक्स, Hanuman Ashtak Lyrics पसंद आया तो-

|| कृपया कमेन्ट जरूर करें ||

अनेको रागों की बंदिशों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, फ़िल्मी गानों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, सुपरहिट भजनों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी लिरिक्स/नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं से जुडी जानकारी पाने के लिए   “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर F O L L O W करें |

और S U B S C R I B E करें मेरे y o u t u b e चैनल “Sur Sarita tech-Youtube” “S U R  S A R I T A  T E C H K N O W” – You tube को |

P L E A S E   C O M M E N T और शेयर जरूर करें ||

धन्यवाद्
पवन शास्त्री

Share: