पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics

यह Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Notation And Lyrics भजन श्री कृष्ण के विरह में माँ देवकी की कारगार में होते हुए भी अपने बालक की एक झलक पाने की विवशता और उसे लेकर उनकी व्याकुलता का वर्णन सुनने वाले को भी पागल कर देता है | इस पोस्ट में हम आपको भजन का पूरा लिरिक्स और पूरा नोटेशन दे रहे हैं |

पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics
पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics

पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics

यहाँ Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics दिया गया है |

स्थाई –
पंख जो होते मैं उड़ जाती,
नन्द बाबा के द्वार,
उमड़ उमड़ मेरो जिया आवे,
बहे दूध की धार,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।
 
अंतरा –
मेरे पति छबड़ा में धर के,
जब से गोकुल पहुंचाए,
मेरे कुंवर गए जा दिन से,
मैंने दर्शन तक ना पाए,
जाने कैसे राखत होएगी,
वा रो राजकुमार,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।
कन्या ले के यशोदा की,
मेरी गोदी में ला डारी,
वा कंस दुष्ट ने आ के,
वो पत्थर पे दे मारी,
सुनी गोद ये मेरी हो गई,
रह गई मैं मन मार,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।
 
ये कंस है गयो बैरी,
मेरे सात पुत्र मरवाए,
लयो बदलो कौन जनम को,
हम जेलन में दुःख पाएं,
हाथ हथकड़ी पाँवन बेड़ी,
है जेल के बंद किवाड़,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।
 
मैं कैसे पतों लगाऊं,
कोई ना है पास हमारे,
कोई बता दे आके,
लग रहे जेल के ताले,
फाटक बंद जेल के हो रहे,
ठाड़े पहरेदार,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।
 
पंख जो होते मैं उड़ जाती,
नन्द बाबा के द्वार,
उमड़ उमड़ मेरो जिया आवे,
बहे दूध की धार,
लाल मेरो रोवत होयगो,
के भूखो सोवत होयगो।।

Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Notation

पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics
पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics

इस भजन Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Notation में लगने वाले स्वर हैं –
मंद्र सप्तक में कोमल नि शुद्ध ध फिर मध्य सप्तक में सा, रे, ग, म, प, और ध | तो मंद्र सप्तक का नि कोमल और शेष सभी स्वर शुद्ध हैं |
तो कह सकते हैं की यह Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics थाट – खमाज पर आधारित भजन है |

 

किसी भी स्वर के लिए कोई भी चिन्ह नहीं लगाया गया है क्योंकि मंद्र सप्तक का सभी नि कोमल और मध्य सप्तक का शुद्ध ही रहेगा |
राग – खमाज के बंदिश के नोटेशन, आलाप, तान, स्वर विस्तार, आरोह, अवरोह एवं पकड़ के लिए नीचे link पर क्लिक करें –

स्थाई –
पंख जो होsते | मैं उड़ जातीs,
गरे  रे सासाध | ग रेरे सासाध
नन्द बाबा के  द्वाssर,
धध  सारे ग  गरेसागरे
उमड़ उमड़ मेरो जियरा आवे,
रेरेम ममम मम रेरेरेम  मम

बहे दूध की धार,
धध पप म  ग-
लाल मेरो  रोवत  होयगो,
रेरे  सासा .नि.नि  सासरे,
कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

अंतरा –
मेरो  पति छबड़ा में धर के,
सासा धध सासा  रे मम ग
जब से गोकुल में पहुंचाए,
रेरे  रे  सासा ग  रेरेसासा

मेरे   कुंवर गए   जा दिन से,
सासा  धध सासा  रे  मम ग
मैंने दर्शन  तक ना पाए,
रेरे  रेसासा  गरे रे सासा

जाने कैसे  राखत  होएगो हो ओ,
धध  धध  पधध   पम   प  ध
जाने कैसे  राखत  होएगो
धध  धध  पधध   पम

वा रो  राजकुमार,
म  ध  पपममग
लाल मेरो  रोsवत  होयगो,
गग   रेरे  सा.नि.नि  सासरे,

कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

कन्याs  ला के  यशोदा  की,
सासाध  ध सा सारेमम  ग
मेरी गोदीs  मेंss डारी,
रेरे  रेसासा गरेरे सासा

वा कंस  दुष्ट ने  आ ss के,
सा साध धसा सा रेमम ग
वो पत्थर पे  दे  माssरी,
रे  रेरेसा सा ग  रेरेसासा

सुनी गोद ये मेरी | हो गई हो ओ,
धध  धध प धध | प  म  प  ध
सुनी गोद ये मेरी | हो गई,
धध  धध प धध | प  म

रह गई मैं मन मार,
म  ध  प पम मग

लाल मेरो  रोsवत  होयगो,
गग   रेरे  सा.नि.नि  सासरे,
कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

ये  कंस  है गयो  बैsरी,
सा साध  ध सारे  ममग
मेरे  साsत पुत्र मरवाए,
रेरे  रेसासा गरे रेसासा

लयो बदलो कौन जनम को,
सासा धध  सासा रेमम  ग
हम  जेलन में दुःख पाएं,
रेरे  रेसासा ग  रेरे  सासा

हाथ हथकड़ी पाँवन बेड़ी हो ओ,
धध  धधप  धधप  म  प  ध
हाथ हथकड़ी पाँवन बेड़ी,
धध  धधप  धधप  म

है जेल  के बंद किवाड़,
म धध  प पम  म-ग

लाल मेरो  रोsवत  होयगो,
गग   रेरे  सा.नि.नि  सासरे,
कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

मैं  कैसे  पतोंs  लगाऊं,
सा साध  धसारे  ममग
कोई ना है पास हमारे,
रेरे  रेसासा गरे रेसासा

कोई  बताs  दे आsके,
सासा धधसा रे  ममग
लग रहे   जेल केs ताsले,
रेरे  रेसा  सा  गरे रेसासा

फाटक  बंद जेल  के  हो रहे हो ओ,
धध    धध पध  ध  प  म  प  ध
फाटक  बंद जेल  के  हो रहे,
धध    धध पध  ध  प  म

ठाड़े   पहरेदाsर,
मधध  पपममग

लाल मेरो  रोsवत  होयगो,
गग   रेरे  सा.नि.नि  सासरे,
कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

पंख जो होsते | मैं उड़ जातीs,
गरे  रे सासाध | ग रेरे सासाध
नन्द बाबा के  द्वाssर,

धध  सारे ग  गरेसागरे
उमड़ उमड़ मेरो जियरा आवे,
रेरेम ममम मम रेरेरेम  मम

बहे दूध की धार,
धध पप म  ग-
लाल मेरो  रोवत  होयगो,
रेरे  सासा .नि.नि  सासरे,

कि भूखो सोवत होयगो।।
म  मम  गरेरे  सासा

पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics
पंख जो होते मैं उड़ जाती नन्दबाबा के द्वार लिरिक्स, Filmi Tarj Bhajan Pankh Jo Hote Lyrics
कृपया कंमेंट जरूर करें
 ऐसे ही  फ़िल्मी गानों के हिंदी नोटेशन, सुपरहिट भजनों के हिंदी नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु, और टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके  “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें |
और s u b s c r i b e करें मेरे youtube चैनल sur sarita techknow को |
धन्यवाद्
-पवन शास्त्री