Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation & Lyrics

Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics,याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स

इस पोस्ट में आपको याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics दिया जा रहा है | और उम्मीद है की यह याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics आपके लिए जरूर helpful साबित होगा |

Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics

Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics

यहाँ याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics दिया गया है |
स्थाई – 
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics अंतरा – 
गोकुल को छोड़ कान्हा,
मथुरा गये थे,
राधा रानी को क्या तुम,
भूल गये थे |
आधी – आधी रात मा ई,
नीद उड़ाई ||
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
जमुना किनारे तुमने,
बंशी बजाई,
सारी गुजरिया दौड़ी,
तेरे पास आई,
सांवली सुरतिया मोहन,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
बातों में जब – जब मुझे,
तेरी याद आई,
नैनो से आंसू मेरे,
रुक नहीं पाए,
झलक दिखा दे मोहन,
दाऊ के भाई ||
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
राधा पुकारे तुमको,
राधा पुकारे,
दिल में बसे हो मेरे,
मोहन प्यारे,
विनती सुनो मनमोहन,
श्याम दुहाई ||
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई,
ऐसी जो बजाई बंशी – 2,
मेरे मन को भाई |
याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई ||
संबधित पोस्ट –

Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation

इस याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation में लगाने वाले स्वर इस प्रकार से हैं –
मंद्र सप्तक में शुद्ध ध और प एवं मध्य सप्तक में सा, रे, कोमल ग, तथा शुद्ध प, ध, सां, रे और कोमल ग का प्रयोग हुआ है –
.प.ध सा रे कोमल ग, पध सां रें कोमल गं || अर्थात यह याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation राग शिवरंजनी पर अधारित है | सभी ग कोमल होने से कोमल स्वरों के लिए किसी भी चिन्ह का प्रयोग नहीं किया गया है |

Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation स्थाई – 
याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धगंगं  रेंसां


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
मेरे मन  | को भाई
धध पग  | रेग रेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा


Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Notation अंतरा – 
गोकुल को | छोड़ कान्हा,
प-ध   ध |  गं   गंगं
मथुरा गये थे,
गंगंरें सांसां रें


राधा रानी | को क्या तुम,
गंगं  रेंसां | रें  सां  धप
भूल गये  थे |
गंरें सांसां सां


आधी आधी | रात मा ई,
पप   धध  |सांसां ध प
नीs  दs  | उड़ा sईs
धध पग  | रेग रेसाs 


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धगंगं  रेंसां
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप


मेरे मन  | को भाई
धध पग  | रेग रेसा
याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा


जमुना किनारे तुमने,
 प-ध  धगं   गंगं
बंsशी बजाsई,
गंगंरें  सांसांरें


सारी गुजरिया दौड़ी,
गंगं  रेंसांरेंसां  धप
तेरे पास आई,
गंरें सांसां सां


सांवली सुरतिया मोहन,
पपध   धसांसां  धप
मेरे मन | को भाई |
धध पग | रेग रेसाs


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
ऐसी जो  | बजाई बंशी,

पप  ध  | धगंगं  रेंसां


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
मेरे मन  | को भाई
धध पग  | रेग रेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा


बातों में जब | जब मुझे,
पप  ध  ध  | धगं  गंगं
तेरी याद आई,
गंगं रेंसां सांरें
नैsनो से   आंसू मेरे,
गंगंरें  सां  रेंसां  धप


रुक नहीं पाए,
गंरें सांसां सां
झलक दिखा  दे मोहन,
पपध  धसां  सां धप


दाऊ केs  भाsईs ||
धध पग  रेगरेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धगंगं  रेंसां


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
मेरे मन  | को भाई
धध पग  | रेग रेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा

राधा पुकारे तुमको,
प-ध  धगं   गंगं
राsधा पुकारे,
गंगंरें  सांसांरें


दिल में बसे | हो मेरे,
गंगं  रें सांरें | सां धप
मोहन प्यारे,
गंरेंसां सां-सां


विनती सुनो मनमोहन,
पपध  धसां  सांsधप
श्याsम  दुहाsई ||
धधपग  रेगरेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धगंगं  रेंसां


ऐसी जो  | बजाई बंशी,
पप  ध  | धसासा धप
मेरे मन  | को भाई
धध पग  | रेग रेसा


याद सताए | तेsरीs  कृsष्णs   कन्हाई,
सारे  गपध | धपपग  गरेसा.ध .धगरेसा

आशा करता हूँ की यह याद सताए तेरी कृष्ण कन्हाई लिरिक्स, Jindagi Ki Rahon Mein Tarj Bhajan Lyrics आपको जरोर पसंद आया होगा | अगर यह पोस्ट आपके लिए helpful थी तो –

“plz कमेन्ट जरूर करें |”

रागों की बंदिशों के हिंदी नोटेशन, फ़िल्मी गानों के हिंदी नोटेशन, सुपरहिट भजनों के हिंदी नोटेशन, लोकगीतों के हिंदी नोटेशन, हिन्दुस्तानी संगीत से सम्बन्धी व्याख्याओं, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के रिव्यु, और टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारी पाने के लिए follow बटन पर क्लिक करके  “www.sursaritatechknow.com” को  जरूर follow करें | और subscribe करें मेरे youtube चैनल sur sarita techknow-Youtube को |

Please Comment और शेयर जरूर करें ||

धन्यवाद्
पवन शास्त्री

Leave a Comment